समर्थक

मंगलवार, 1 नवंबर 2011

हिंसा का बदला सदैव हिंसा ही होता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ब्लॉग निर्देशिका